किसान नेताओं को जान से मारने की बड़ी साजिश का पर्दाफाश।

Cricket masti dose Sun Jan 24 2021

26 जनवरी को होने वाली ट्रैक्टर रैली में चार प्रमुख किसान नेताओं को जान से मारने की बड़ी साजिश का पर्दाफाश हुआ है। किसान नेताओं ने एक ऐसे शख्स को पकड़ा है जो मीडिया के सामने यह स्वीकार करते दिख रहा हैं कि आगामी 26 जनवरी को होने वाली ट्रैक्टर रैली में मंच पर बैठे चार प्रमुख किसान नेताओं को जान से मारने की एक योजना का वह हिस्सा था।
credit: third party image reference

किसान नेताओं द्वारा जब उस शख्त को मीडिया के सामने प्रस्तुत किया गया तो वह इस सारी योजना की पर्तें खोलता दिख रहा है। वीडियों में वह शख्स यह भी स्वीकार कर रहा है कि किन-किन नेताओं को मारना है इस बारे में आरोप यह कह रहा है कि उसको जिन किसान नेताओं को मारना था उनका नाम तो नहीं पता, लेकिन उसके पास उन चारो किसान नेताओं के फोटों हैं जिनको गोली मारना है।

पकड़े गए शख्स ने दावा किया है कि उसकी टीम के सदस्यों को ट्रैक्टर रैली के दौरान कथित तौर पर पुलिस की वर्दी में भीड़ पर लाठीचार्ज करने की योजना थी और इसके बाद जब वहां अफरा-तफरी मचती तो इसी दौरान मौका पाकर मंच पर भाषण दे रहे चार प्रमुख किसान नेताओं को गोली मारने को कहा गया था।
credit: third party image reference

पकड़ा गया शख्स यह भी कहता है कि किसान नेताओं को गोली मारने का जो ट्रेनिंग दे रहा है वह राई थाने का एसएचओ प्रदीप सिंह है। आरोपी ने यह भी कहा, ” हमने उस एसएचओ को कभी थाने के आगे देखा नहीं, क्योंकि जब भी हमसे मिलने आता है अपना चेहरा एक कपड़ से ढंक कर आता है। हमने उस एसएचओ का बैच देखा था उसका चेहरा कभी नहीं देखा। ”

कानून व्यवस्था को खराब होने का हवाला देकर दिल्ली पुलिस इस टैक्टर रैली को कुंडली-मानेसर पलवल एक्सप्रेस वे पर आयोजित करने का सुझाव दिया था, लेकिन किसान का कहना था कि सुरक्षा व्यवस्था बनाए रखना पुलिस का काम है यह किसानों का काम नहीं है और जिद पर अड़े किसान नेताओं ने पुलिस के सुझाव को अस्वीकार कर थी।
credit: third party image reference

इस विवादित नये कृषि कानून को लेकर केंद्र सरकार के प्रतिनिधियों और किसान नेताओं के बीच अब तक 11 दौर की वार्ता हो चुकी है, लेकिन यह वार्ता कुछ परिणाम देने के बाजाय और उलझती जा रही है। नये कृषि कानून को रद्द करने की मांग लेकर किसान संगठन 26 जनवरी को दिल्ली के व्यस्त बाहरी रिंग रोड पर ट्रैक्टर रैली करने वाले हैं। इस रैली को रोकने के लिए केंद्र सरकार और दिल्ली पुलिस ने किसानों नेताओं से कई बार बातचीत भी कर चुकी है।लेकिन किसान नेता इस ट्रैक्टर रैली को किसी भी तरह से स्थगित करने या दिल्ली से बार करने पर राजी नहीं हैं।

अब किसान नेताओं को जान से मारने की साजिश में किसका हाथ है, यह जांच का विषय है, लेकिन एक बात तो यह निश्चित हैं नये कृषि कानूनों को निरस्त करने को लेकर किसान नेताओं और सरकार के बीच तल्खी अभी और बढ़ने वाली है।

  ऐसी खबरें और जानने के लिए हमे फॉलो और शेयर करना ना भूले।
This article represents the view of the author only and does not reflect the views of the application. The Application only provides the WeMedia platform for publishing articles.
Powered by WeMedia

Join largest social writing community;
Start writing to earn Fame & Money