एक ऐसी किताब जिसे पढ़कर लोग बीमार हो जाते हैं .

Soyeb Meman Thu Jan 21 2021

एक ऐसी किताब जिसके के बारे में ना आपने कभी सुना होगा न सोचा होगा. देश के पन्ने जहर से बने हुए और उसको पढ़ने से लोग बीमार हो जाते हैं या फिर मर जाते हैं.


सन 1874 में अमेरिकन लेखक डॉक्टर रॉबर्ट सी किड्जी ने लिखे हुआ शैडोज फ्रॉम द वॉल्स ऑफ़ डेथ नाम की किताब पब्लिश की थी . इस किताब की खासियत यह है कि इसको पढ़ने वाला बीमार हो जाता है या फिर मर भी जाता है . इस किताब की  कहानी इतनी डरावनी नहीं है बल्कि यह किताब आरसैनिक पिगमेंटेड वॉलपेपर के कागज से बना हुआ है. अर्ध धातु के मूल तत्व से बना हुआ आर्सेनिक वाले होने की वजह से एक कागज जहरीले है और उसका जहर स्पर्श या फिर खुशबू की माध्यम से इंसान के जिस्म में दाखिल होता है और आर्सेनिक पॉइजन की असर होने लगती है .
credit: third party image reference

इस किताब की 100 में से 86 पन्नी जहरीले है. बाात ऐसी है कि 19 सदी के उत्तरार्ध में अमेरिका केेे मिशिगन टेस्ट  और दूसरे राज्यों की दीवानों की सजावट के लिए यही कागज का उपयोग होता था अगर कोई इस किताब को छूता तो उसकेेेे हाथ  हाथ मुंह के जरिए यह जहर शरीर में दाखिल हो जाता था जैसा कि कोरोना मैं होता है . डॉक्टर किडजी ने इन पन्नों को अपनी किताब शैडोज फ्रॉम द वॉलस ऑफ डेथ मैं यूज़ किया था और उसकी 100 से अधिक नकल छपाई थी . और लाइब्रेरी मेंं रखा था आज भी उस किताब की नकल मिशीगन स्टेट की यूनिवर्सिटी और मेडिकल स्कूल लाइब्रेरी में है लेकिन उसको कोई छूता नहीं है और जो छुता है वह भी पूरी सावधानी  के साथ . डॉ रॉबर्ट किडजी ने अमेरिका की सिविल वॉर केेेे दरमियान तबीबी सेवा दी थी . और उसके बाद मिशीगन स्टेट एग्रीकल्चर मेंं प्रोफेसर की जॉब की थी.

ऐसे ही इंटरेस्टिंग न्यूज़ के लिए हमारी पोस्ट को लाइक कीजिए शेयर कीजिए और हमें फॉलो कीजिए .
This article represents the view of the author only and does not reflect the views of the application. The Application only provides the WeMedia platform for publishing articles.
Powered by WeMedia

Join largest social writing community;
Start writing to earn Fame & Money